Cyber Mitan: बिलासपुर पुलिस की एक नई पहल

424

Cyber Mitan: दोस्तों आप सब जानते होंगे जैसे ही दुनिया डिजिटल हो रही है वैसे ही साइबर अपराध भी बढ़ते जा रहे हैं इन्हीं साइबर अपराधों को रोकने के लिए हमारी बिलासपुर की पुलिस ने एक नई पहल लॉन्च की है जिसका नाम है साइबर मितान।

साइबर मितान के द्वारा बिलासपुर पुलिस आमजन में साइबर अपराध से बचने के लिए लोगों को जागरूक करने के लिए एक मुहिम चला रही है

आइए आप और हम इस मुहिम का हिस्सा बने अपने सभी सोशल मीडिया पोस्ट में #CYBERMITAN का यूज करते हुए साइबर अपराधों को रोकने के लिए जागरूकता फैलाएं।

Cyber Mitan के संदेश

साइबर मितान के कुछ महत्वपूर्ण संदेश:-

  • फेसबुक
  • अपने पहचान वाले व्यक्ति द्वारा फेसबुक मैसेन्जर के माध्यम से पैसा मांगने पर संबंधित व्यक्ति से बात कर पुष्टि करें। अपराधी फर्जी आईडी बनाकर ऐसी मांग करते हैं।
  • पासवर्ड स्ट्रांग रखें और किसी के साथ पासवर्ड शेयर न करे।
  • प्रायवेसी सेटिंग में जाकर ‘‘प्रोफाईल सेफ गार्ड‘‘ एक्टीव रखे।
  • किसी अनजान/अवांछित व्यक्ति से दोस्ती न करे।
  • अपना लोकेशन/यात्रा/पिकनिक का स्थान के संबंध में सोशल साईट पर शेयर करने से घर पर चोरी जैसे अपराध की संभावना बन जाती है।
  • वाट्सएप
  • अनजान नंबर/गु्रप के मैसेज/काॅल/विडियोकाॅल से सतर्क रहें। ऐसे नंबर से आए लिंक को क्लिक करने से आप का फोन हैक हो सकता हैं।
  • टू-स्टेप वेरिफिकेशन ऑनरखे।
  • आटो डाउनलोड को ऑन रखे।
  • इंस्टाग्राम

एकाउण्ट प्रायवेट सेटिंग में रखे।

अनजान व्यक्तियों के द्वारा भेजे गये रिक्वेस्ट लिंक को क्लिक न करे।

ऑनलाइन डेटिंग एप के झांसे में न आये। ऑनलाइन डेटिंग एप के बहकावे में आकर लोग निजी फोटो/विडियो चैटिंग करते हुए ब्लैकमेलिंग एवं आनलाईन साइबर अपराध के शिकार हो जाते है।

किसी भी सोशल साईट पर साम्प्रदायिक आपत्ति जनक फोटो/विडियो/मैसेज को पोस्ट या शेयर न करें। ऐसा करने से आप अपराध के भागीदार हो सकते है।

Cyber Mitan
Cyber Mitan

अनजान बैक खाता में पैसा जमा न करे

अपराधी काॅल कर, इंटरनेट पर फर्जी पोस्ट, अखबार में फर्जी विज्ञापन डालकर लोगो के मजबूरी का फायदा/लाभ का लालच देकर फर्जी बैंक खातो में पैसे जमा करवाते है। निम्न प्रकार से अपराधी ठगी कर बैंक खातो मे पैसा जमा करवाते है, जिनसे हम सावधान रहना चाहिए।

  • किसी भी प्रकार के लाॅटरी/कार/नगद रकम/मूल्यवान वस्तु/लकी ड्राॅ के झांसा में नही आना चाहिए।
  • नौकरी लगाने के नाम से रजिस्टेªशन फीस/आई.डी/ड्रेस के नाम से किसी को पैसा नही देना है।
  • अनजान व्यक्ति द्वारा आपको गिफ्ट भेज रहा हूं कहकर कस्टम शुल्क/जी.एस.टी/सर्विस शुल्क के नाम से पैसा मांगने पर आपको किसी को पैसा नही देना है।
  • हाल फिलहाल की गई किसी खरीददारी के बदले रिवार्ड/गिफ्ट/नगद रू प्राप्त होने के लालच में आकर किसी को पैसा नही देना है।
  • किसी आर्मी जवान/अर्ध सैनिक बल/पुलिस के फोटो वाले आई.डी में सस्ता सामान/कार/बाईक/फोन देखकर अनजान खातो में पैसा जमा नही करना है।
  • सोशल साईट में बने दोस्त आपसे मिलने के बहाने, एयरपोर्ट में फंस जाने का झांसा देकर आपसे पैसो की मांग करते हैै। एैसे प्रकरणो में किसी को पैसा नही देवें।
  • खाली जमीन, प्लाट, मकान की छत पर टावर लगाने तथा अत्यधिक राशि किराया के रूप में प्रदाय करने के लिए रजिस्ट्रेशन/अन्य शुल्क के नाम से पैसा मांगते है उनके झांसे में नही आये।
  • इंश्योरेंस/ई.एम.आई/पेंशन स्कीम में टैक्स/कमीशन बचत करने के लिए अपराधी फोन काल कर झांसा देते हैै। ऐसे खातो में पैसा जमा करने से बचे।

ओ.टी.पी

ओ.टी.पी आपके बैंक खाता, ई – वाॅलेट, मोबाईल वाॅलेट व सोशल मीडिया आई.डी. की चाॅबी है। अपराधी अपने आपको बैंक या किसी कंपनी का अधिकारी बताकर फोन पर आपसे ओ.टी.पी मांगता हैं। ओ.टी.पी को किसी के साथ शेयर न करे।

  • ओ.टी.पी शेयर करने से आपके इंटरनेट बैंकिग/सोशल मिडिया/अकाउंट को अपराधी हैक कर इस्तमाल कर सकते है तथा आपके बैंक खाते में जमा राशि का आहरण कर सकते है।
  • अपराधी पेंशन/इंश्योरेंस अपडेट या मैच्युरिटि के नाम से आ.ेटी.पी धोखे से लेते है और ठगी करते है। इनसेे बचें।
  • ओ.टी.पी (यू.पी.सी) बताने पर आपका सिम अन्य व्यक्ति को जारी हो सकता है।
  • रिवार्ड/लाॅटरी/रिफंड के नाम पर भी अपराधी ओ.टी.पी प्राप्त कर लेते है।
  • ए.टी.एम कार्ड अपडेट/एक्सपायरी/ब्लाॅक के नाम पर भी अपराधी झूठ बोलकर ओ.टी.पी प्राप्त कर लेते हैं।
  • के.वाय.सी/आधार अपडेट के बहाने अपराधी ओ.टी.पी प्राप्त कर लेते है।
  • किसी भी स्थिति में किसी को ओ.टी.पी न बताए ।

Cyber Mitan जागरूकता अभियान

  • बैंक कभी भी ए.टी.एम कार्ड नंबर, ओ.टी.पी., पिन जैसी कोई जानकारी फोन पर नहीं मांगता। अतः किसी को भी फोन पर ओ.टी.पी., पिन या बैंक खाता संबंधी जानकारी जैसे ए.टी.एम. कार्ड/क्रेडिट कार्ड नंबर सी.वी.वी. नंबर न बतावे।
  • ए.टी.एम. बूथ पर ए.टी.एम. कार्ड का उपयोग किसी अंजान व्यक्ति से न करावे।
  • ए.टी.एम. बूथ में कार्ड इंसर्ट करने की जगह को अच्छी तरह से हिला कर जांच लें कि उसमें कोई स्किमर डिवाईस तो नही लगी है।
  • ए.टी.एम. बूथ में पिन नंबर प्रेस करते समय एक हाथ से की-बोर्ड के उपर छिपाव कर पिन दबाये जिससे यदि स्पाई कैमरा लगा भी लगा हो तो आपका पिन रिकार्ड न हो सके।
  • पेमेंट एप जैसे गूगल-पे, फोन-पे, पे.टी.एम. आदि का उपयोग बेहद सावधानी से करें। यू.पी.आई. पिन एवं क्यु. आर. कोड किसी से भी शेयर न करें।
  • अनजान नंबर से अवांछित लिंक प्राप्त होने पर कोई प्रतिक्रिया न दे।
  • गूगल/याहू आदि सर्च इंजन से प्राप्त हेल्प लाईन नम्बर पर पूर्णतः विश्वास कर प्रतिक्रिया न करें क्योकि गूगल में विभिन्न संस्थानो के हेल्पलाईन नम्बर पर अपराधी अपना नंबर डाल देते है, और नंबरो पर फोन लगाने से अपराधी के संपर्क में आ जाते है और फ्राॅड का शिकार हो जाते है।
  • अपराधी ओ.एल.एक्स/क्विकर एप में आर्मी/पुलिस जवान की वर्दीधारी फोटो लगाकर/आई.डी. बनाकर सस्ते में कार/बाईक या अन्य सामान बेचने का लालच देकर रजिस्ट्रेशन/ट्रांसपोर्टेशन आदि के बहाने पैसा जमा कराकर ठगी करते है ऐसे लोगो से सावधान रहे।
  • अपराधी ऐनीडेस्क, क्वीक सपोर्ट जैसे एप को पे.टी.एम. बंद होने का झांसा देकर डाॅउनलोड कराकर ठगी करते है। ऐसे किसी भी एप को अपराधियो के कहने पर डाॅउनलोड नही करना है।
  • सोशल मीडिया (वाॅट्स-एप, फेसबुक/इंस्टाग्राम) में टू-स्टेप प्रायवेसी सेटिंग का उपयोग करे।
  • अपने मोबाईल नम्बर, जन्म तिथी या साधारण अंक जैसे 00000000 या 88888888 जैसे पासवर्ड न रखे, पासवर्ड स्ट्रांग रखे।
  • प्रोफाईल फोटो का सेफगार्ड से सुरक्षित रखे, जिससे अपराधी फोटो को काॅपीकर फर्जी आई.डी. न बना सकें।