हिंदी चीनी भाई भाई

Hindi Chini Bhai Bhai 1 अप्रैल 2020 को भारत चीन राजनयिक संबंधों की स्थापना के 70 वर्ष पूरे हो गए हैं पिछले 70 वर्षों में चीन भारत संबंधों में कुछ मामूली टकराव के बावजूद लगातार प्रगाढ़ता देखी गई है तथा दोनों देश एक असाधारण विकास पत्र से होकर गुजरे हैं 1950 के दशक में दोनों देशों के नेताओं ने राजनयिक संबंध स्थापित करने का ऐतिहासिक निर्णय लिया था और संयुक्त रूप से शांतिपूर्ण सह अस्तित्व के 5 सिद्धांतों की वकालत भी की थी

who said the slogan hindi chini bhai bhai

Dalai Lama invokes Hindi Chini Bhai Bhai slogansays Doklam standoff not very serious. 

The Rise and Fall of Hindi Chini Bhai Bhai
The Rise and Fall of Hindi Chini Bhai Bhai

दोनों देश शांति तथा मैत्रीपूर्ण परामर्श के माध्यम से सीमा विवाद के प्रश्न को हल करने तथा द्विपक्षीय संबंधों को विकसित करने के पक्षधर हैं

hindi chini bhai bhai in hindi
hindi chini bhai bhai

1 अप्रैल 1950 को भारत चीन के मध्य राजनयिक संबंध स्थापित हुए थे उल्लेखनीय है कि पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना की आरती के साथ संबंध स्थापित करने वाला भारत पहला गैर समाजवादी देश था जिसके पश्चात हिंदी चीनी भाई भाई एक तकिया कलाम बन गया था वर्ष 1954 में चीन के प्रधानमंत्री ने भारत का दौरा किया था

तथा भारत चीन शांतिपूर्ण सिद्धांतों की संयुक्त रूप से वकालत की गई थी उसी वर्ष भारतीय प्रधानमंत्री ने चीन का दौरा किया स्थापना के बाद नेहरू जी चीन का दौरा करने वाले प्रथम गैर समाजवादी देश के प्रमुख विपक्षी संबंध गंभीर झटका लगा लेकिन उसके बाद वर्ष 1976 में भारत-चीन संबंधों को फिर से बहाल किया गया

इसके बाद के समय में द्विपक्षीय संबंधों में धीरे-धीरे सुधार देखने को मिला भारत के प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने द्विपक्षीय संबंधों को सामान्य करने के प्रयासों के तहत चीन का दौरा किया था दोनों पक्ष सीमा विवाद के प्रश्न के पारस्परिक स्वीकार्य समाधान निकालने तथा अन्य क्षेत्रों में सक्रिय रूप से द्विपक्षीय संबंधों को विकसित करने के लिए सहमत हुए थे भारत में तत्कालीन राष्ट्रपति आर वेंकटरमन भारत गणराज्य के स्वतंत्रता के पश्चात वर्ष 1992 में चीन का दौरा करने वाले प्रथम भारतीय राष्ट्रपति थे