Achchhe Karm Kaise Kare | टॉप 10 तरीके

Last Updated on 6 months by Editorial Staff

Achchhe Karm Kaise Kare: दोस्तों के जीवन में सफलता पाना चाहते हैं अपने जीवन को ऐसे जीना चाहते हैं कि लोग आपके जाने के बाद भी आपको याद करें याद करें या ना करें आपके बारे में बुरा भला ना कहें जब भी आपकी बात निकले तो लोगों के मन में अच्छे ही विचार हैं तो उसके लिए यहां मैं आपको 10 ऐसे तरीके बता रहा हूं जिनके माध्यम से आप लोगों के दिल में एक अच्छा अपना इमेज बना सकते हैं

माना जाता है अच्छे कर्म करने से पुण्य की प्राप्ति होती है मोक्ष की प्राप्ति होती है

दस पुण्य कर्म- 1.धृति- हर परिस्थिति में धैर्य बनाए रखना। 2.क्षमा- बदला न लेना, क्रोध का कारण होने पर भी क्रोध न करना। 3.दम- उदंड न होना। 4.अस्तेय- दूसरे की वस्तु हथियाने का विचार न करना। 5.शौच- आहार की शुद्धता। शरीर की शुद्धता। 6.इंद्रियनिग्रह- इंद्रियों को विषयों (कामनाओं) में लिप्त न होने देना। 7.धी- किसी बात को भलीभांति समझना। 8.विद्या- धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष का ज्ञान। 9.सत्य- झूठ और अहितकारी वचन न बोलना। 10.अक्रोध- क्षमा के बाद भी कोई अपमान करें तो भी क्रोध न करना।
Achchhe Karm Kaise Kare | टॉप 10 तरीके
दस पुण्य कर्म-
1.धृति- हर परिस्थिति में धैर्य बनाए रखना।
2.क्षमा- बदला न लेना, क्रोध का कारण होने पर भी क्रोध न करना।
3.दम- उदंड न होना।
4.अस्तेय- दूसरे की वस्तु हथियाने का विचार न करना।
5.शौच- आहार की शुद्धता। शरीर की शुद्धता।
6.इंद्रियनिग्रह- इंद्रियों को विषयों (कामनाओं) में लिप्त न होने देना।
7.धी- किसी बात को भलीभांति समझना।
8.विद्या- धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष का ज्ञान।
9.सत्य- झूठ और अहितकारी वचन न बोलना।
10.अक्रोध- क्षमा के बाद भी कोई अपमान करें तो भी क्रोध न करना।
Achchhe Karm Kaise Kare
Achchhe Karm Kaise Kare

Achchhe Karm Kaise Kare

  1. दूसरों का धन हड़पने की इच्छा बिल्कुल ना करें
  2. ऐसा काम करें जिससे मन करने को कहता हूं लेकिन वह गलत ना हो
  3. शरीर के सुख के सुख को ही सब कुछ ना माने
  4. कठोर वचन ना बोले मीठी वाणी बोलिए
  5. हमेशा सच बोलने का प्रयास करें ज्यादातर हो सके अगर झूठ बोलने से किसी का भला होता है तो झूठ बोलना जायज है
  6. दूसरों की बुराई यानी निंदा ना करें
  7. बिना कारण बोलते ना रहे हैं बकवास मत करें
  8. चोरी मत करें अपना पुरुषार्थ करें खुद के पैसे बनाएं खुद मेहनत करें
  9. तन मन कर्म से किसी को दुख मत दे किसी को पीड़ा मत पहुंचाएं
  10. पर स्त्री/पुरुष से किसी भी प्रकार के संबंध ना बनाएं

ये तरीके हैं जो आपको पुण्य की ओर ले जाते हैं

आशा है आपको आपका सवाल अच्छे कर्म कैसे करें का जवाब मिल गया होगा

‘तकलीफ देखकर मन में करुणा का भाव रखो’


आचार्यश्री ने कहा कि किसी व्यक्ति की बीमारी, शरीर में तकलीफ या दु:ख देखकर हमारे मन में करुणा का भाव आना चाहिए। यदि कोई व्यक्ति आपका शत्रु है या विरोधी है और वह दुःख में है तो उसके दु:ख को देखकर तुम सुख का अनुभव करते हो यह उचित नहीं है।

उसके कर्म का फल तो वह दुःख भोगकर काट लेगा लेकिन यदि तुम उसके प्रति ऐसे भाव लाओगे तो तुम अनुचित कर्मों का बंधन करोगे, यह उचित नहीं है।

Achchhe Karm Kaise Kare | टॉप 10 तरीके