शेयर मार्केट क्या होता है?

Last Updated on 11 months by Editorial Staff

Share Market Kya Hota Hai: आज हमारे देश में शिक्षा का स्तर और पढ़ाई का तरीका हम सभी जानते है। हमें इसीलिए या इसी तरह से पढाया जाता है, ताकि हम अच्छी नौकरी करने लायक बन जाए.

आज हर किसी को जल्दी से अमीर होना है। कोई मेहनत नही करना चाहता, लोगो को लगता है कि शेयर मार्केट में जल्दी से अमीर हो सकते है। यह बाद कुछ हद तक सही भी है। पर आसान नही, क्योंकि मेहनत और समय तो यहां भी देना ही पड़ता है।

मार्केट या शेयर मार्केट रिस्क सभी जगह है! “सबजेक्ट टू मार्केट रिस्क” चलो समझते है, इस मार्केट को अपनी आसान भाषा मे।

मार्केट क्या है?

एक ऐसी जगह, जहा हमारे रोज के इस्तमाल में आने वाली वस्तुओं की खरीदारी ओर बिक्री होती है।

थोक में या खुदरा बाजार में या फिर हमारे घर के अगल बगल लगने वाले छोटे बाजार इसका उदाहरण है।

इस मार्केट का इस्तेमाल 100% लोग करते है।

शेयर मार्केट (Share Market) क्या होता है?

शेयर बाजार से शेयर खरीदने को बहुत से लोग जुआ समझते है, मैं नही मानता। कुछ लोग इसे एक खतरनाक खेल की उपाधि भी दे देते है, लेकिन मुझे शेयर खरीदने में कुछ भी खतरनाक नजर नही आता।

हा, एक बात है, यदि आप शेयर बाजार से शेयर खरीदने को मजाक बना देंगे या फिर बिना सोचे समझे invest करेंगे तो ये सच में आपके लिए एक जुआ और खतरनाक खेल हो सकता है। अब इसके बारीकियों के बारे में पढ़िये।

शेयर बाजार यानि की स्टॉक मार्केट क्या है?

शेयर बाजार यानि की स्टॉक मार्केट, एक ही बात है। शेयर बाजार में शेयरों(इक्विटी) की खरीद-बिक्री होती है। शेयर को स्टॉक तथा इक्विटी भी कहते है। शेयर का अर्थ होता है हिस्सा, किसी कंपनी में लगने वाले पूंजी(cap.) का हिस्सा।

किसी कंपनी को चलाने के लिए बड़ी पूंजी की आवश्यकता होती है, और कोई अकेला व्यक्ति इतनी बड़ी पूंजी अकेले नही लगा सकता।

इसलिए कंपनियों के पूंजी को छोटे-छोटे हिस्सों में बांट दिया जाता है, ताकि आम लोग भी अपना पैसा कंपनी में लगा सके। इन्ही हिस्सों को शेयर(Stock) कहते है। इससे दोनों को फायदा होता। एक तरह से कहे तो जो share holders होते है वो किसी कंपनी के जितने शेयरों को खरीदते है, company को लाभ होने पर उतने प्रतिशत लाभ के हिस्सेदार होते है।

इसको इस तरह समझिये – मान लीजिये की किसी कंपनी को एक करोड़ रूपए पूंजी की आवश्यकता है, जिसके केवल पचास प्रतिशत शेयर बिकने के लिए सार्वजनिक रूप से उपलब्ध है। क्योंकि पचास लाख रूपए कंपनी की शुरुआत करने वाले लोगो(प्रोमोटर्स) ने पहले ही लगा रखे है, जिसके कारण कंपनी का पचास प्रतिशत शेयर उनके पास है।

अब जो पचास प्रतिशत शेयर बिकने के लिए शेयर बाजार में उपलब्ध है उसमे से आपने एक प्रतिशत शेयर खरीद लिया यानि की आपने उस कंपनी में एक लाख रूपए लगाये, इस तरह से आप उस कंपनी के एक प्रतिशत के मालिक हुए। Company को जितना profit होगा उसका एक प्रतिशत आपको मिलेगा(दलाली लेकर) और यदि कंपनी को loss होगा होगा तो आपका भी loss होगा।

भारत में दो शेयर बाजार है

मुंबई शेयर बाजार(सेंसेक्स) – Bombay Stock Exchange – BSE(Sensex)

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज, दिल्ली(निफ्टी) – National Stock Exchange – NSE(Nifty)

शेयर के प्रकार – Types of Shares (in Hindi)

India में कई प्रकार के share issue किये जाते, उन्में में से कुछ प्रमुख शेयर जिनके बारे में ज्यादा चर्चा होती है, वो इस प्रकार है।

इक्विटी शेयर (Equity Shares)

प्रेफेरेंस शेयर (Preference Shares)

डीफ्फेरेड शेयर (Deferred Shares)

बोनस शेयर (Bonus Shares)

शेयर खरीदने के लाभ

शेयर खरीदने से आप अच्छा रिटर्न पा सकते है। Share bazar में बहुत सारी कंपनियां पंजीकृत है जिनमे से आप किसी भी अच्छी कंपनी को चुनकर अपने पैसे को invest कर सकते है।

बैंक में रुपयों को सड़ाने से अच्छा है की आप अपने कमाई को शेयर बाजार में invest करे, लेकिन सोच-समझकर। क्योंकि कभी-कभी ऐसा करना आपको लखपती भी बना सकता है तो कभी-कभी आपके लाखों रूपए हजारों में बदल सकते है। इसमें risk है।

शेयर कब खरीदना चाहिये?

आप शेयर किसी भी वक्त खरीद सकते हो, इसका कोई विशेष समय नही है। बाजार में मंदी हो या फिर तेजी हो, आप कभी भी शेयर खरीद सकते हो।

किसी त्योहार के कारण या विशेष मौकों पर कंपनियों को लाभ होने से उसके शेयर के भाव बढ़ जाते है, जो आगे चलके फिर घट जाते है, ऐसे समय में यदि आप बढ़े हुए भाव में शेयर खरीद लिए तो आपको आगे चलकर घाटा हो सकता है।

शेयर वैसे समय में खरीदिये जब आपको लगे की कुछ दिनों में बाजार में तेजी आएगी। ऐसा आप short term investment में intra-day-trading के जरिये कर सकते है। लेकिन सबसे अच्छा निवेश long term investment होता है, जिसे कम से कम दो से तीन साल के लिए करे तो profit होना तय है।

शेयर में क्या खरीदे?

शेयर खरीदते समय आप अपने दलाल(broker) की बातों में कभी न आये। पहले खुद से रिसर्च(research) करें फिर किसी कंपनी का शेयर ख़रीदे। हमेशा अच्छी कंपनी के शेयर को ख़रीदे जिसकी आर्थिक स्थिति, management काफी मजबूत हो।

मेरे हिसाब से यदि आप नये है तो आपको ऐसी कंपनी के शेयर को खरीदना चाहिए, जिसके products का इस्तेमाल हमलोग रोजाना अपने जीवन में करते है, या किसी को करते हुए देखते है।

20% लोग ही इस मार्केट का इस्तेमाल करते है।

मार्केट ओर शेयर मार्केट में क्या अंतर होता है?

स्टॉक्स को कैसे चुने?

कई कंपनी बहोत ग्रो करती है?

कुछ कंपनी धीरे ग्रो करती है?

बहोत सी कंपनियां बंद हो जाती है?

इसे आसान भाषा मे समझाओ!!!

बच्चे के जन्म इसे जोड़कर देख सकते है।

जैसे बच्चों की देखभाल करना पड़ता है वैसे ही स्टोक्स की भी देखभाल करना पड़ता है!

निवेश करे।

शेयर मार्केट क्या होता है?